Threads of time...

Tuesday, August 26, 2008

खामोशी

खामोश रहिये तो क्या क्या सदाएं आती हैं,
पुकारिए तो कोई मुड़ के देखता भी नहीं....
यह शहर है चंद अनजानों का
जहाँ साया भी लगता बेमानी है
सिर्फ़ कुछ बदहवास आवाजें हैं
और चारो और अजीब सी वीरानी है

Labels:

posted by Nomade at 10:51 PM

0 Comments:

Post a Comment

<< Home